व्‍यापार नेतृत्‍व शिखर सम्‍मेलन 2018

भारतीय प्रबंध संस्‍थान, शिलाँग ने 14 से 16 सितम्‍बर 2018 को अपने व्‍यापार नेतृत्‍व शिखर सम्‍मेलन के पहले संस्‍करण की मेज़बानी की । ‘रिफ़ाइन, डिफ़ाइन, एंड डिज़ाइन बिज़नेस इन ए न्‍यू इंडिया’ विषय पर तीन दिवसीय कॉन्‍क्‍लेव ने भाप्रबंसं शिलाँग के छात्रों को उद्योग मौजूदा स्थिति और कैसे विकसित हो रहा है की पूरी जानकारी देने के लिए छह प्रमुख क्षेत्रों के 24 विशेषज्ञों की मेज़बानी की।

शिखर सम्‍मेलन का उद्घाटन मेघालय के राज्‍यपाल, माननीय श्री तथागत रॉय ने किया था, जिन्‍होंने कहा कि भावी अग्रणियों को सबसे महत्‍वपूर्ण यह सीखना चाहिए कि कैसे नेतृत्‍व प्रबंधन और प्रेरणा का एक मुख्‍य पहलू था । सम्‍मेलन के उद्घाटन की घोषणा करते हुए, प्रो. केया सेनगुप्‍ता ने उद्योग और शिक्षाविदों के बीच घनिष्‍ठ संबंध के बारे में प्रकाश डाला । भारत के मानव संसाधन विकास मंत्रालय मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने ऊर्जावान युवाओं और उद्योग के अनुभवी दिग्‍गजों को साथ लाकर भारत में स्‍टार्ट-अप और नवाचार प्रथा को बढ़ावा देने में इस तरह के सम्‍मेलन के महत्‍व पर जोर देते हुए भाप्रबंसं शिलाँग के छात्रों को इसके सर्वप्रथम शिखर सम्‍मेलन के लिए बधाई दी ।

पहले दिन वित्‍त उद्योग के दिग्‍गजों इंफ़ोसिस बीपीएम सीएफ़ओ निक्षित शाह, कोटक महिन्‍द्र एमसी सीआईओ-इक्विटी और वरि.ईवीपी हर्षा उपाध्‍याय एवं वेल्‍यू रिसर्च सीईओ धीरेंद्र कुमार ने ‘आर फ़ाइनेंशिअल एसेट्स् द न्‍यू गोल्‍ड फ़ॉर इंडियन मिडल क्‍लास ?’ विषय पर व्‍याख्‍यान दिया और वीपी फाइनेंस, बीएसईएस सुरेश अग्रवाल और कारपे डिएम परामर्श कार्यकारी निनाद कारपे ने क्‍या भारत 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्‍यवस्‍था बन सकता है पर चर्चा किया । क्रिप्‍टोक्‍यूरेंसी ,’’पीपूल चेज़ थिंग्‍ज़ विच गो अप रिसेंटली-गोल्‍उ वाज़ द देन-बिटकॉइन, बट ग्रेटर रिएलिज्‍़म.’’ पर श्री कुमार का मत दिन का महत्‍वपपूर्ण समय रहा ।

business leader ship

खुद को सशक्‍त बनाने के लिए स्‍टार्टअप द्वारा संपदा कारोबार को आगे बढ़ाने की बात करते रणनीति के विशेषज्ञ

bussiness leader ship-1

मानव संसाधन के विशेषज्ञों द्वारा मात्र कार्यात्‍मक इकाई के समर्थन से मानव संसाधन प्रबंधन एक रणनीतिक साझेदार के रूप में कैसे विकसित हुआ पर चर्चा

भाप्रबंसं शिलाँग की व्‍यापार नेतृत्‍व शिखर सम्‍मेलन के दूसरे दिन मासं और संचालन क्षेत्र से प्रख्‍यात वक्‍ताओं को देखा गया । मानव संसाधन प्रबंधन कैसे मात्र एक कार्यात्‍मक समर्थन इकाई से रणनीतिक सहयोगी में विकसित हुआ पर चर्चा करते हुए, केटरपिलर इंक टेलेंट एक्विजि़शन (एशिया पेसिफिक) के प्रधान मुकेश तिवारी, ईस्‍टमैन ऑटो एंड पावर व मुख्‍य मानव संसाधन कार्यालय के अध्‍यक्ष श्री सत्‍येन्‍द्र मलिक एवं महिनद्र एंड महिंद्र फाइनेंशिअल सर्विज़ के व्‍यापार प्रधान (मासं) ज्‍योतिर्मय भट्टाचार्य, कॉलगेट ग्‍लोबल बिज़नेस सर्विस के मासं प्रधान (भारत) राजीव लाहकर ने माइक्रोलैण्‍ड के सुजितेश दास द्वारा संचालित पैनल में विषयों के व्‍यापक क्षेत्र की विविधता से बढ़ते ऑटेमेशन पर चर्चा की । इसके बाद, रिलायंस इंडस्‍ट्रीज़ के डॉ. हरेश चतुर्वेदी, इंस्‍पीरैज से अन्‍नपूर्णा ए, जयपुर रग्‍ज़ से सुरिन्‍दर कोहली, और कोतक महिंद्र बैंक से विवेक जैन को शामिल करते हुए मासं विशेषज्ञों की एक पैनल ने ‘’रिबिल्डिंग इंडिया विद ए बिलियन ह्यूमन रिसोर्सेज़’’ पर अपने विचार साझा किए, जिसके दौरान श्री कोहली ने भावी अग्रणियों को सचेत किया कि, ‘’कृत्रिम बुद्धिमत्‍ता एक खतरनाक खेल है और नैतिक होने की आवश्‍यकता पहले से कहीं अधिक है’’ । संचालन पैनल ने ‘कार्यकारी में आपूर्तिकर्ताओं, कर्मचारियों और ग्राहकों के व्‍यवहार में फ़ैक्टिरिंग की बढ़ती प्रासंगिकता पर चर्चा आरंभ की, जिसमें मासं विशेषज्ञों द्वारा चर्चा की गई कि कैसे मानव संसाधन प्रबंधन मात्र एक कार्यात्‍मक सहयोगी इकाई से रणनीतिक साझेदार के रूप में विकसित हुआ’ बिहेव्‍य ऑफ़ सप्‍लायर्स, एम्‍प्‍लॉयीज़ एंड कंस्‍टमर्स’ पर चर्चा की । रणनीति विशेषज्ञों ने स्‍टार्टअप द्वारा आरंभ किए गए पैतृक व्‍यवसाय को आगे बढ़ाने में खुद को निर्णयन-कार्य में पुन:गढ़ने के बारे में बात की, जिसमें रश्मि पात्र, हेड टेक्निकल ऑनरेशन्‍स-नोवार्टिस और वेल्‍सपन के सीएचआरओ राजीव यादव ने भी शोभा बढ़ाया ।

शिखर सम्‍मेलन का अंतिम दिन परामर्श और रणनीति विशेषज्ञों के साथ आरंभ हुआ जो खुद की खोज के लिए स्‍टार्टअप द्वारा पैतृक व्‍यवसायों को आगे बढ़ाने की बात के साथ हुई । इकोलेक्टिक पैनल में पूर्व ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज़ सीबीओ और रेनशाइन एंटरटेंमेंट के सह-संस्‍थापक मिहिर मोदी, जीएटीआई-केडब्‍ल्‍यूइ कॉर्पोरेट स्‍ट्रेटजी और एनालिटिक्‍स हेड, विकास पवार के साथ हैप्‍पीली अनमैरिड के सह-संस्‍थापक रजत तुली थे, जिन्‍होंने ‘जो आप नहीं करेंगे उन चीजों की सूची बनाएं । सूची में नहीं दिए गए काम को उत्‍कृष्‍टता से करें’’ का साझा किया । शेष दिन इस बात पर केंद्रित रही कि भारत के किसलय युवाओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए विपणन कैसे विकसित हो रहा है । छात्रों ने गिरनासॉफ्ट के सीएमओ गौरव मेहता और ओगिल्‍वी के प्रधान-नॉर्थ कपिल अरोड़ा से साझा अर्थव्‍यवस्‍था और आज के बाजार की प्रयोगात्‍मक प्रकृति के बारे में जानकारी प्राप्‍त की । उद्योग के दिग्‍गजों के तीन दिवसीय मेल को समाप्‍त करने के लिए बिज़नेस स्‍टैण्‍डर्ड सेल्‍स के उपाध्‍यक्ष विजय काडु और फ्रायडेनबर्ग फिल्‍ट्रेशन टेक्‍नॉलॉजीज़ इंडिया के वरिष्‍ठ उपाध्‍यक्ष आनन्‍द सिंह ने अपने विशेषज्ञ बातों से छात्रों को अवगत कराया कि कैसे भारत में डिजिटल माकेंटिंग का दौर चल रहा है ।

इस प्रकार संस्‍थान के छात्रों को विभिन्‍न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के संयुक्‍त अनुभव के माध्‍यम से सीखने का अवसर के साथ भाप्रबंसं शिलाँग का व्‍यापार नेतृत्‍व शिखर सम्‍मेलन का पहला संस्‍करण संपन्‍न हुआ । कल के युवा नेताओं को एक उज्‍जवल और तेज भारत की ओर काम करने की प्रेरणा की नवीन भावना से युक्‍त किया गया ।

बीएलएस वेबसाइट देखें- http://iims-bls.in/
logo